तेरी ही प्यास है

मेरी इन नज़रो को आज भी तेरी तलाश है,
तेरे बिना ज़िंदगी का हर लम्हा उदास है,
खुद को तो समझा लूँ मगर इस दिल का क्या करूँ ,
हर पल हर लम्हा इसको तेरी ही प्यास है,

मुझे तुझसे भी ज़्यादा है ज़रूरत तेरी

दिल को सुकून देती है सूरत तेरी ,
एक तुझसे ही तो है ज़िंदगी खूबसूरत मेरी,
काश तू जान ले मेरी मोहब्बत को एक बार,
मुझे तुझसे भी ज़्यादा है ज़रूरत तेरी,

एक पल लगता है

बहुत कम मिलते हैं, ज़िंदगी में पल मुस्कुराने के,
ज़िंदगी गुजरती है, अक्सर आंसू बहाने में,
पूरी ज़िंदगी लग जाती है, जिस रिश्ते को बनाते बनाते,
एक पल लगता है उस रिश्ते को, टूट कर बिखर जाने में |

तुझसे दूर होकर

तुझसे दूर होकर बस, पड़ा है इतना फर्क मुझ पर,
कि अब होठो पर मेरे, हँसी आती नहीं है बस |

आ जा तू लौटकर वापस

कुछ नहीं चाहिए मुझे, तेरे सिवा इस ज़माने से,
आ जा तू लौटकर वापस, मेरी जिंदगी में किसी बहाने से |

Previous Older Entries