बहुत खुबसूरत हो तुम

कुछ बोलती सी ये आँखे तुम्हारी,
और चेहरा जैसे प्यार की कोई मूरत हो तुम,
होंठ हों जैसे हों गुलाब की पंखुड़ियाँ,
बेहद ही हसीन और बहुत खुबसूरत हो तुम|

Advertisements

जख्म दिल पे खाए हैं

किस्मत कुछ ऐसी लिखवा के आये है,
खुशी से ज़्यादा गम हमने पाये हैं,
तमन्ना की थी एक छोटी सी खुशी की,
दिल टूटने के जख्म दिल पे खाए हैं,

मुझे तुझसे भी ज़्यादा है ज़रूरत तेरी

दिल को सुकून देती है सूरत तेरी ,
एक तुझसे ही तो है ज़िंदगी खूबसूरत मेरी,
काश तू जान ले मेरी मोहब्बत को एक बार,
मुझे तुझसे भी ज़्यादा है ज़रूरत तेरी,

सारा जहाँ एक साथ लुट गया है

फिर आज ज़िंदगी से विश्वास उठ गया है,
काँटा सा कोई सीने में घुस गया है,

मेरी बदनसीबी आज फिर मेरे सामने आ गयी,
मेरी ज़िंदगी का हर रोशन दिया बुझ गया है,

अब तो मेरी साँसे भी मेरी रूह के साथ नहीं हैं ,
मेरा तो सारा जहाँ एक साथ लुट गया है|

हर दर्द को भूल जाऊँ

कुछ इस कदर मैं, तेरे इश्क में डूब जाऊँ,
के सीने से लगा के तुझे, हर दर्द को भूल जाऊँ|

Previous Older Entries