ख्वाहिश है मेरी अब तो, सिर्फ तुझे पाने की

ख्वाहिश है मेरी अब तो, सिर्फ तुझे पाने की,

तेरा हो जाने की और, तुझे अपना बनाने की |

करूँगा मैं तुझे प्यार दीवानों की तरह,

चाँद की चांदनी के जैसे शमा के परवानो की तरह,

खायी है कसम तेरे इश्क में खुद को मिटाने की,

ख्वाहिश है मेरी अब तो, सिर्फ तुझे पाने की,

तेरा हो जाने की और, तुझे अपना बनाने की |

रखूँगा मैं तुझे हमेशा पलकों पे बिठाकर,

हर दर्द से दूर हर ग़म से बचा कर,

दूंगा मैं तुझे खुशियां सारे ज़माने की,

ख्वाहिश है मेरी अब तो, सिर्फ तुझे पाने की,

तेरा हो जाने की और तुझे, अपना बनाने की |

रहा नहीं जाता एक पल अब तुझसे जुदा होके,

पाना ही है तुझे अब तो फिर चाहे खुदा रोके,

आएगी तू एक दिन जिंदगी में इस दीवाने की,

ख्वाहिश है मेरी अब तो, सिर्फ तुझे पाने की,

तेरा हो जाने की और, तुझे अपना बनाने की |