तुम ही मेरा प्यार हो, तुम ही मेरी जान हो

तुम ही मेरा प्यार हो, तुम ही मेरी जान हो,

तुम ही मेरी ख्वाहिश हो, तुम ही मेरा अरमान हो,

मेरी ज़िंदगी तुम से ही शुरू है, और तुम पे ही खत्म ,

तुम ही मेरी मंजिल हो, तुम ही मेरा मक़ाम हो |

Advertisements

मेरी उजड़ी हुई दुनिया को, फिर से बसा दो तुम |

क्या थी मेरी खता, कोई वजह तो बता दो तुम,

क्यों दूर हो मुझसे, क्यों मुझसे खफा हो तुम |

दूर रहकर तुमसे, एक पल मुस्कुरा न सका मैं,

मेरी रोती हुई आँखों को, फिर से हंसा दो तुम |

चाहत मेरी जीने की, अब ख़त्म सी होने लगी है,

मेरे दिल में जीने की हसरत, फिर से जगा दो तुम |

एक एक करके जो मेरा, हर सपना टूट सा रहा है,

मेरे सपनो को मेरी आँखों में, फिर से सजा दो तुम |

हर पल बिखरा हूँ मैं, टूट टूट कर तुम्हारे बिना,

मेरी उजड़ी हुई  दुनिया  को, फिर से बसा दो तुम |

चल रहा हूँ मैं, जिंदगी के सफ़र में तन्हा अकेला,

मेरी जिंदगी में आके खुद को, मेरा हमसफ़र बना दो तुम |